उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का दावा, अब तक 7 लाख मज़दूरों को वापस लाया गया!

0
44

कोरोनावायरस फैलने के कारण भारत में अचानक से लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। देश के प्रधानमंत्री ने पूरे भारत में 21 दिन का लॉकडाउन घोषित किया था। अचानक से घोषित हुए लॉकडाउन के कारण बहुत से लोग अपने घरों से दूर कहीं फंस कर रह गए। सबसे ज़्यादा दिहाड़ी पर काम करने वाले मज़दूर इसका निशाना बने। सभी राज्य सरकारे अब दूर फंसे मज़दूरों को वापस लाने की व्यवस्था कर रही हैं। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया है कि उत्तर प्रदेश में 7 लाख मज़दूरों को वापस लाया जा चुका है।

दिहाड़ी पर काम करने वाले मज़दूर अक्सर अपने घरों से दूर जाकर दूसरे राज्यों में काम करते हैं। अपने परिवार का पेट पालने के लिए ये मज़दूर अपना गाँव छोड़ कर बड़े बड़े शहरों में जाकर मज़दूरी का काम करते हैं। अचानक से लगे लॉकडाउन के कारण लाखों मज़दूर देश के अलग अलग हिस्सों में फंसे हुए हैं। घर जानें के लिए कोई वाहन उपलब्ध नहीं है। मज़बूरी में लाखों मज़दूर पैदल ही अपने घरों की तरफ चल पड़े हैं।

Also Read: दिल्ली में भी ऑनलाइन शराब बिक्री की मांग Online Sharab Website in Delhi

इतने लम्बे सफर पर पैदल निकले ये मज़दूर रात दिन चल रहे हैं। हज़ारो मज़दूर अपने घर पहुँचने से पहले ही रास्ते में मर चुके हैं। कोई थकान से तो कोई भूख से मर रहा है। ऐसे में सभी राज्य सरकारे अब अपने अपने राज्य के मज़दूरों को वापस लाने की कोशिश कर रही हैं। मज़दूरों के लिए स्पेशल बस व ट्रैन चलायी जा रही हैं। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया है कि उनके राज्य में अब तक 7 लाख मज़दूर अपने घर लौट चुके हैं।

CM Yogi Adityanath ने बताया कि मज़दूरों से भरी 37 ट्रैनें अब तक उत्तर प्रदेश में आ चुकी हैं। इसके अलावा बसों के द्वारा भी लगभग 40 हज़ार मज़दूर वापस लाये जा चुके हैं। सीएम ने इन वापस आए मज़दूरों का ज़िले के अनुसार डेटा तैयार करने का आदेश दिया है। सीएम आगे बताया कि आने वाले दो चार दिन में लगभग 50 ट्रैनें उत्तर प्रदेश में मज़दूरों को लेकर आएँगी। सीएम ने अधिकारियों से लौटे हुए मज़दूरों के साथ अच्छा व्यवहार करने का आदेश दिया है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here