गुजरात: वैज्ञानिकों ने बनाया 50 रुपये में मास्क, कोरोना वायरस पर पड़ेगा भारी

0
175
gujarat scientists made face mask

कोरोना वायरस के देश भर में बढ़ते खतरे को देखते हुए भारतीय वैज्ञानिक दिन-रात ऐसे उपाय खोजने में जुटे हैं, जिससे कोरोना वायरस से निपटने में मदद मिल सके.

हाल ही में गुजरात के भावनगर के सीएसएमसीआरआई (केंद्रीय नमक और समुद्री रसायन अनुसंधान संस्थान) के वैज्ञानिकों ने 50 रुपये में एक खास फेस-मास्क बनाया है, जिसके संपर्क में आने पर कोरोना वायरस नष्ट हो सकते हैं.

इसे पढ़ें: In-Pictures: सुहाना खान ने अपनी तस्वीरें पर डाली जो हो गयी वायरल |

किसी भी वायरस को इसमें नष्ट करने की क्षमता

सीएसएमसीआरआई (केंद्रीय नमक और समुद्री रसायन अनुसंधान संस्थान), गुजरात के वैज्ञानिकों ने बताया कि 50 रुपये के इस खास फेस-मास्क की बाहरी परत को पारदर्शी पॉलीसल्फोन मैटेरियल से बनाया गया है. पारदर्शी पॉलीसल्फोन मैटेरियल की मोटाई 150 माइक्रोमीटर है. यह पारदर्शी पॉलीसल्फोन मैटेरियल 60 नैनोमीटर या उससे अधिक किसी भी वायरस को खत्म कर सकता है. कोरोना वायरस का व्यास 80-120 नैनोमीटर के बीच है.

हालांकि 50 रुपये के इस खास फेस-मास्क को मेडिकली एप्रूवल मिलना बाकी है. केंद्रीय नमक और समुद्री रसायन अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों का कहना है कि इसे मेडिकली अप्रूवल मिलते ही कोरोना वायरस के प्रकोप से जूझ रहे आम लोगों के साथ-साथ कोरोना वायरस का इलाज कर रहे डॉक्टरों और कर्मचारियों को कोरोना वायरस के खतरे से बचाने में मदद मिल सकती है.

इसे भी पढ़ें: बीवी की डांट से बचने के लिए पति ने किया कुछ ऐसा, जिसके बाद यह हुआ

धोकर दोबारा इस्तेमाल की सुविधा

इस खास फेस-मास्क की एक खासियत यह भी है कि इसे धोकर दोबारा उपयोग किया जा सकता है. दूसरे महंगे मास्कों की तुलना में यह काफी सस्ता है. इस खास फेस-मास्क को बनाने में 25 से 45 रुपये तक लागत आती है.

सीएसएमसीआरआई के वैज्ञानिक डॉ वी.के. शाही ने बताया कि इस तरह का खास फेस-मास्क बनाने का आइडिया अपने आप में काफी नया है. 50 रुपये के इस खास फेस-मास्क की बाहरी परत वायरस, फंगल और बैक्टीरिया प्रतिरोधी है. एक तरह से यह खास फेस-मास्क एन-95 मास्क से भी बेहतर साबित हो सकता है. –Source

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here